E-mail: administration@blspindia.org    |    Phone: 011 - 47523879, 42478184   
रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के द्वारा एकल विद्यालय के बच्चों के लिए दिया गया शैक्षणिक सामग्री
BLSP India > BLOG > रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के द्वारा एकल विद्यालय के बच्चों के लिए दिया गया शैक्षणिक सामग्री
  • Ranjeeta jain
  • No Comments

रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के द्वारा एकल अभियान से संबद्ध भारत लोक शिक्षा परिषद् के द्वारा संचालित एकल विद्यालय के सहयोग के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के द्वारा बच्चों के लिए शैक्षणिक सामग्री ब्लैक बोर्ड प्रदान किया गया। यह कार्यक्रम क्रिस्टल क्रॉप प्रोटेक्शन लिमिटेड, वजीरपुर, दिल्ली में आयोजित किया गया।

रोटरी क्लब द्वारा समाज सेवा का जो कार्य किया जा रहा है वो अति सराहनीय हैI इस कार्यक्रम में शहर के प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों ने भाग लिया तथा समाज के कल्याण के लिए विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की, रोटरी क्लब द्वारा समाज के उत्थान के लिए समय समय पर समाज को जोड़ने का प्रयास किया जाता है ताकि समाज सेवा के कार्यों में अधिक से अधिक योगदान दिया जा सके I

एकल विद्यालय ग्रामीण एवं वनवासी समाज के गरीब एवं असहाय बच्चों के शिक्षा, स्वास्थ्य और संस्कार के विकास के लिए कार्य करता हैI इससे पहले भी रोटरी क्लब द्वारा एकल विद्यालयों के बच्चों के लिए शिक्षण सामग्री वितरित की गई हैI समाज में शिक्षा के प्रति एकल विद्यालय के योगदान को देखते हुए रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी ने निकट भविष्य में व्यापक रूप से जुड़ने एवं सहयोग करने की इच्छा व्यक्त की है I

एकल विद्यालय से जुड़े हुए लोगों के कर्तव्य निष्ठां एवं समाज सेवा के भाव को देखते हुए रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के कई सदस्यों ने एकल विद्यालय के लिए दान भी दियाI एकल अभियान को लोगों ने बहुत सराहा और कुछ लोगों ने एलक के प्रति सकारात्मक भाव व्यक्त करते हुए एकल विद्यालय में दान का आश्वासन भी दिया I इस कार्यक्रम में भारत लोक शिक्षा परिषद् के चेयरमैन श्री जी डी गोयल, अध्यक्ष नंदकिशोर अग्रवाल, श्री रमेश कनोडिया, श्री राजीव अग्रवाल, श्री अखिल गुप्ता एवं रोटरी क्लब दिल्ली यूनिवर्सिटी के डीजी श्री सुभाष जैन, श्री दीपक गुप्ता, श्री जे के गौर, श्री अशोक अग्रवाल, श्री बीएम अग्रवाल, श्री नीरज रायजादा सहित कई अन्य गणमान्य महानुभाव उपस्थित रहेI

 

 

 

 

Author: Ranjeeta jain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *